Today Jodhpur Sucide Case मां-बाप और दो बेटों का मर्डर कर सुसाइड किया:पिता को कुल्हाड़ी से मारा, बाकी परिजनों को नींद की गोलियां दे टैंक में फेंका

जोधपुर में एक युवक ने अपना पूरा परिवार ही खत्म कर दिया। मां-बाप और दो बेटों की हत्या के बाद उसने भी सुसाइड कर लिया। यह दिल दहला देने वाली वारदात लोहावट के पीलवां गांव की है। गांव में एक साथ 5 लाशें मिलने से सनसनी फैल गई। प्रारंभिक जांच में सामने आया कि सनकी युवक दो दिन से अपने परिवार को नींद की गोलियां दे रहा था।

Today Jodhpur Sucide Case

सनकी हत्यारे ने गुरुवार शाम पहले खेत में काम कर रहे पिता को कुल्हाड़ी से मौत के घाट उतारा फिर घर पहुंचकर मां और अपने दो बेटों को खाने में नींद की गोलियां दे दीं। जब वे तीनों बेहोश गए तो एक एक करके सभी को पानी की टांके में फेंक दिया। इसके बाद वह कुछ दूर रह रहे अपने मामा के घर पहुंचा और वहां टांके में कूद गया।

लोहावट थाना के सीआई बद्री प्रसाद ने बताया कि ​​​​किसान शंकर लाल (38) ने पहले अपने पिता सोनाराम (65) पर कुल्हाड़ी से हमला कर घायल कर दिया और मौके से भाग गया। सोनाराम को घायल देख कुछ लोगों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया, जहां देर रात इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

घर पहुंचकर शंकर लाल ने बाकी परिजनों के खाने में नींद की गोलियां मिला दीं। इससे सभी बेहोश हो गए तो सबसे पहले अपनी मां चंपा (55) को घर में बने पानी के टांके में फेंक दिया।

Today Jodhpur Sucide Case

उसका बेटा लक्ष्मण (14) भी वहीं सो रहा था, उसे भी पानी में फेंक दिया। शंकर का छोटा बेटा दिनेश (8) अपनी मां के पास सो रहा था, सुबह करीब 5 बजे उसे भी टांके में फेंक दिया। बताया जा रहा है कि वह अपने परिजनों को दो दिन से नींद की गोलियां दे रहा था। lohawat Suside Case News

शुक्रवार सुबह लोगों ने देखा कि पानी के टांके में शव तैर रहे हैं। उन्होंने पुलिस को घटना की सूचना दी। CI ने बताया कि शंकर लाल को नशे की लत थी, वह अफीम का नशा करता था। उसका अपनी पत्नी मैना से अनबन थी। पुलिस टीम ने जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। एफएसएल टीम ने भी मौके से सबूत जुटाए हैं।

दो दिन से दे रहा था अपने परिवार को नींद की गोलियां 

शंकर के भाई की पत्नी ने बताया कि बुधवार की रात को सनकी भाई ने सभी को 22 नींद की गोलियां दी थी। परिवार को बताया कि सभी खेत में दिनभर काम करते हैं, इसलिए थक जाते हैं। ये गोलियां खाने से नींद अच्छी आएगी। इसके बाद गुरुवार को भी सभी को शिकंजी में तीन-तीन नींद की गोलियां डालकर दी थी।

भाई का कमरा बंद था इसलिए बच गया

पुलिस ने बताया कि शंकर ने अपने भाई की पत्नी को भी नींद की गोलियां दी थी। ये भी कहा कि इसे आराम मिलेगा। वह गोली लेकर अपने बच्चों के साथ कमरे में चली गई और दरवाजा बंद कर दिया। सामने आया कि वह भाई की पत्नी को भी मारना चाहता था लेकिन दरवाजा बंद होने की वजह से वह बच गए।

पत्नी के पास से ले गया छोटे बेटे को

मां-बाप और बड़े बेटे की हत्या करने के बाद वह सुबह 5 बजे अपनी पत्नी के पास आया। यहां छोटे बेटे दिनेश को उठाया तो पत्नी की आंख खुली। इस पर बोला कि वह बच्चे को पेशाब करवा कर ला रहा है। लेकिन, पत्नी पर भी नींद की गोलियां का असर था तो वह उठ नहीं पाई। इसके बाद शंकर ने अपने बेटे को उठाया और सीधे पानी के टैंक में डाल दिया।

Today Jodhpur Sucide Case पत्नी बोली: नींद से उठी तो घर में खून देखा

पत्नी मैना ने पुलिस को बताया कि जब नींद से उठी तब उसने घर में खून देखा और घर के सभी लोग वहां नहीं थे। वह दौड़ कर खेत में गई तो ससुर को लहुलुहान देखा और शोर मचाया। आस-पास से लोग पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर पिता को अस्पताल पहुंचाया।

ये भी पढ़ें..

ट्रेन के आगे लेट गए पति-पत्नी:स्पीड कम थी इसलिए बच गए, बोले: हमें मर जाने दो

बुढ़ापे से परेशान 80 साल के पति-पत्नी ने एक साथ मरने की सोची। इसके लिए वे ट्रेन के आगे आकर लेट भी गए, लेकिन स्पीड कम होने की वजह से दोनों की जान बच गई। वहां मौजूद लोगों ने जब उठाया तो कहने लगे हमें अब नहीं जीना है। दोनों से समझाइश कर वृद्धाश्रम भेजा गया है। मामला अलवर शहर के हसन खां के पास डबल फाटक का है ट्रेन की स्पीड कम थी इसलिए दोनों की जान बच गई। (पूरी खबर पढ़ें)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top